Best Dhoka Shayari In Hindi | Dhokebaaz Dost Shayari Hindi

Dhokebaaz Dost Shayari - हेल्लो दोस्तों आपका हमारी इस पोस्ट में स्वागत है इस पोस्ट में हमने आपके मतलबी दोस्तों के लिए शायरी शेयर की है | आज की दुनिया बहुत मतलबी  है इस दुनिया में दोस्त भी मतलबी हो गये है मतलब के लिए दोस्ती करते है | एक बार काम निकल जाने के बाद अपने दोस्तों को भूल जाते है | इस पोस्ट में हमने Matlabi Dost Status In Hindi और Dhokebaaz Dost Shayari Hindi शेयर किये है | अगर आपको ये Dhoka Shayari Hindi 140 पसंद आये तो अपने उन दोस्तों के साथ शेयर करे जिनको धोखा मिला हो |

 

Dhokebaaz Dost Shayari In Hindi


Dhoka Shayari In Hindi
Dhoka Shayari In Hindi


कदम कदम पर बहारो ने साथ छोडा , जरुरत पडने पर यारो ने साथ छोडा ,बादा किया सितारोँ ने साथ निभाने का , सुबह होने सितारो ने साथ छोडा।


यू तो हर दिल में एक कशिश होती है हर कशिश में एक ख्वाहिश होती है मुमकिन नही सभी के लिए ताज महल बनाना लेकिन हर दिल में एक मुमताज़ होती है।


Nahi rakhte hum wafa ki umeed kisi se, Hum ne har taraf bewafai jo payi hai, Mat dhoond humare chehre par zakhm ke nishan, Hum ne har chot dil par khai hai.


कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।


बेवफा सनम से तो सिग्रत्ती अची है, बेवफा सनम से तो सिग्रत्ती एकही है , दिल जलती है, पर होतो से तो लगती है |


उनकी कमी से दिल मेरा उदास है, पर मुझे तो आज भी उनके मिलने की आस है, ज़ख़्म नही पर दर्द का एहसास है, ऐसा लगता है दिल का एक टुकड़ा आज भी उनके पास है।

Dosti Me Dhoka Shayari In Hindi


समजते थे हम उनकी हर एक बात को, वो हर बार हमसे धोका देते थे,
पर हम भी वक़्त के हातो मजबूर थे, जो हर बार उनको मौका देते थे।


पल पल उसका साथ निभाते हम एक इशारे पर दुनिया छोड़ जाते हम
समंदर के बिच में पहोच कर फरेब किया उसने वो कहते तो किनारे पर ही डूब जाते हम।


बेख़बर तुझे क्या खबर; तेरी आँखों मई कैसा जमाल है;
तुझे देख ले जो बस इक नज़र; उस की आँखों मे फिर यह सवाल है !


ऐसे मिला है हम से शनासा कभी न था  वो यूँ बदल ही जाएगा सोचा कभी न था।


हर दिल का ज़ख़्म धो लेते हे, आंशु ओ के जाम से.
इतनी बेवफ़ाई करो की, नफ़रत हो जाए लड़की ओ के नाम से।


बेवफाई उसकी मिटा के आया हूँ; ख़त उसके पानी में बहा के आया हूँ;
कोई पढ़ न ले उस बेवफा की यादों को; इसलिए पानी में भी आग लगा कर आया हूँ।


चमन के रंग-ओ-बू ने इस क़दर धोका दिया मुझ को कि मैं ने शौक़-ए-गुल-बोसी में काँटों पर ज़बाँ रख दी ।


खुद मेरा पता नही हम कैसे जी लेते हे, तो दुनिया की हालत हम कैसे बताए आपको, गये थे हम मोहब्बत की जंग जीतने, दिल पर ज़ख़्म खाकर वापस लौट आए हे।


किसी का हाथ लेकर हाथ मे जब तुम मिले हमसे, तो कैसे टूट के बिखरा था मेरा मन आँखो मे, ना समझो चुप है तो तुमसे कोई शिकवा नही बाकी, हम अपने दर्द की नही रखते कोई पहचान आँखो मे।


Dhokebaaz Dost Shayari
Dhokebaaz Dost Shayari

Mana Ke Majburi Thi, Fasla Bahut Tha Bahut Doori Thi,
Kabhi Sochta Hun Bewafa Hain Wo, Kabhi Sochta Hun Meri Lakeeren Hi Adhoori Thi…!


Kaisi Ajeeb Ye Tujhse Judai Thi, Ki Tujhe Alvida Bhi Na Keh Saka, Teri Saadgi Mai Itna Fareb Tha, Ki Tujhe Bewafa Bhi Na Keh Sake.

Dosti Mein Dhoka Shayari

Sirf Ek Hi Baat Seekhi, In Husn Waloon Se Hum Ne,
Haseen Jis Ki Jitni Ada Hai, Woh Utna Hi Bewafa Hai..


पल पल उसका साथ निभाते हम एक इशारे पे दुनिया छोड़ जाते हम
समुन्द्र के बीच में पहुच कर फरेब किया उसने वो कहता तो किनारे पर ही डूब जाते हम।


Uski aankhon mein nazar aata hai saara jahan mujhko, Afsos ki un aankhon mein kabhi khud ko nahi dekha.


धोखा दिया था जब तूने मुझे जिंदगी से मैं नाराज था, सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।


खाए है लाखो धोखे, एक धोखा और से लेंगे. तू लेजा अपनी डोली को, हम अपनी अर्थी को बारात कह लेंगे।


समझ लेते हैं हम उनकी दिल की बात को, वो हमें हर बार धोका देते है, लेकिन हम भी मजबूर हैं दिल से, जो उन्हें बार बार मौका देते हैं…!


अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे, इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे,
उनसे क्या गिला करें.. भूल तो हमारी थी जो बिना दिलवालों से ही दिल लगा बैठे।


Tum ne uss Waqt Bewafaai ki, Yakeen Jab Aakhri makaam par tha..!!

Matlabi Dost Status In Hindi
Matlabi Dost Status In Hindi

धोखा तो हर किसी को मिलना चाहिए जीवन में एक बार वरना कुछ अधूरा सा लगता है।

Dhokebaaz Dost Shayari Hindi


दिल किसी से तब ही लगाना जब दिल्लों को परखना सिख लो हट एक चहरे की फितरत में वफादारी नहीं होती।


वो जो अपना था हुंसे है खफा, पता नही किस से हुई थी क्या ख़ाता,
बे-वजह दिल नही टूट-ता किसी का, तुम थे या हम थे बेवफा…।


कैसे बयां करो अलफ़ाज़ नहीं है दर्द का तुझे मेरे अहेसास नहीं है
पूछते हु मुझसे किया दर्द है मुझे दर्द ये है के की तो मेरे पास नहीं है।


दिल का हाल बताना नहीं आता किसी को ऐसे तडपना नहीं आता
सुनना चाहते है एक बार आवाज आपकी मगर बार करने का बहाना नहीं आता।


इन आँखों में आसूं आये न होते अगर वो पीछे से मुश्कुराये न होते
उनके जाने के बाद बस यही गम रहेगा कि काश वो हमारी ज़िन्दगी में आये न होते।


हमारी तड़प तो कुछ भी नही है हुजुर सुना है कि उसके दिदार के लिए तो आईना भी तरसता है।


यू तो कोई तन्हा नही होता, चाहकर किसी से कोई जुदा नही होता,
मोहब्बत को मजबूरिया ही ले डूबती है, वरना खुशी से कोई बेवफा नही होता।


उम्रभर फिर उस यार का बुरा सपना ही आता है जो इस तरह के गहरे जख्म दे जाता है। किसी के मासूम चेहरे के पीछे भी मासूमियत हो, यह कोई जरूरी नहीं। हर मासूम सूरत में मासूम यार नहीं होता।


माना आज दोस्तों की मंज़िले अलग हैं, पर दोस्तों, हमारे बचपन के यादों के रास्ते एक हैं।


ये भी पढ़े:- Khubsurti Ki Shayari


समझ लेते हैं हम उनकी दिल की बात को, वो हमें हर बार धोका देते है, लेकिन हम भी मजबूर हैं दिल से, जो उन्हें बार बार मौका देते हैं…!!!

Bewafa Dosti Shayari In Hindi


अनजाने में दिल गँवा बैठे इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे उनसे क्या गिला करे, भूल तो हमारी थी जो बिना दिल वालों से दिल लगा बैठे ।


Aise milā hai ham se shanāsā kabhī na thā vo yuuñ badal hī jā.egā sochā kabhī na thā


दिल्लगी थी उसे हमसे मोहब्बत कब थी महफ़िल-ए-गैर से उन्हें फुर्सत कब थी हम थे मोहब्बत में लूट जाने के काबिल उसके वादों में वो हक़ीक़त कब थी ।


Bewafa Dosti Shayari In Hindi
Bewafa Dosti Shayari In Hindi


Dhokā thā nigāhoñ kā magar ḳhuub thā dhokā mujh ko tirī nazroñ meñ mohabbat nazar aaī .


लम्हा लम्हा सांसे ख़त्म हो रही हैं ज़िन्दगी मौत के पहलु में सो रही है
उस बेवफा से न पूछो मेरी मौत की वजह वो तो ज़माने को दिखने के लिए रो रही है ।


मेरे अकेले रहने की एक वजह ये भी है,,, कि मुझे झूठे और धोखेबाज लोगों से रिश्ता तोड़ने में देर नहीं लगती…।


जीने के मुख़्तलिफ़ , अंदाज़ बहुत हैं उनपे भी ज़माने को, एतराज़ बहुत हैं ।


दिल तो दिल है , मचल ही जाता है हम मर्ज़े-इश्क से , नासाज़ बहुत हैं।


सच्चे मोहब्बत करने वाले किसी कोने की पहचान बन गये
और मतलबी दिलों के मालिक हो गये।

Matlabi Dost Status In Hindi


ज़िन्दगी में खुद को कभी किसी इंसान का आदी मत बनाना,
क्यूंकि इंसान केवल अपने मतलब से ही प्यार करता है..!।


मतलबी दुनिया में लोग अफसोस से कहते है की, कोई किसी का नही…? लेकीन कोई यह नहीं सोचता की हम किसके हुए।


कुछ यूँ हुआ कि.जब भी जरुरत पड़ी मुझे हर शख्स इतेफाक से.मजबूर हो गया !!


चिठ्ठी ना कोइ संदेस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो ! इस दिल पे लगा के ठेंस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो !!।


कौन किसको दिल में जगह देता हैं, सूखे पत्ते तो पेड़ भी गिरा देता हैं,
वाकिफ हैं हम दुनिया के रिवाजो से, मतलब निकल जाये तो हर कोई भुला देता हैं..।


मतलबी इस दुनिया से क्यों वास्ता रखें कोई तो कारण होगा जो हम खुद को तनहा हैं रखे।


मुझको है तेरा वास्ता जो मिल भी गया कोई रास्ता हम वही खड़े हो जाएंगे तू जो आयी तो शुक्र मनाएंगे।

Dhokebaaz Dost Shayari In Urdu


Hakikat Mahobbat Ki Judai Hoti Hai, Kabhi Kabhi Pyar Men Bewafai Hoti Hai, Hamare Taraf Hath Badakar To Dekho, Pata Chalega Ki Dosti Men Kitani Sacchai Hoti Hai.


Dekho Aawaz Dekar, Paas Hamme Paoge Aaoge Tanha Par Tanha Na Jaoge Dur Rahkar Bhi Tumhi Par Hai Nazar Meri Hathon Se Tham Lenge Jab Bhi Thokar Khaoge.


Kaanto K Badlay,Phool Kia Do Ge Aansoon K Badlay,Khushi Kia Do Ge Hum Chahtay Hain Aap Se Umar Bhar Ki Dosti Hamary Is Ulfat Ka Jawab Kia Do Gay…?


Hum Woh Phool Hain Jo Roz Roz Nahi Khiltay Yeh Wo Hont Hain Jo Kabhi Nahin Siltay Hum Se Bichro Ge To Ehsas Hoga Tumhain Hum Wo Dost Hain Jo Roz Roz Nahin Miltay.


कभी जो हम से प्यार बेशुमार करते थे, कभी जो हम पर जान निसार करते थे, भरी महफ़िल में हमको बेवफा कहते हैं, जो खुद से ज़्यादा हमपर ऐतबार करते थे।


कभी जो हम से प्यार बेशुमार करते थे,  कभी जो हम पर जान निसार करते थे,  भरी महफ़िल में हमको बेवफा कहते हैं, जो खुद से ज़्यादा हमपर ऐतबार करते थे।


वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते, खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते, मर गए पर खुली रखी आँखें, इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते !


Dhokebaaz Dost Shayari Hindi
Dhokebaaz Dost Shayari Hindi


एक दिन जब हुआ प्यार का अहसास उन्हें, वो सारा दिन आकर हमारे पास रोते रहे, और हम भी इतने खुद गर्ज़ निकले यारों कि, आँखे बंद कर के कफ़न में सोते रहे।


Dil Mein Pyar Ka Aagaz Hua Karta Hai Baatein Karne Ka Andaaz Hua Karta Hai Jab Tak Dil Ko Thokar Nahi Lagti Sabko Apne Pyar Par Naaz Hua Karta Hai…!!


इन आंखो मे आंसू आये न होते, अगर वो पीछे मुडकर मुस्कुराये न होते,उनके जाने के बाद बस यही गम रहेगा, कि काश वो हमारी ज़िन्दगी मे आये न होते।


जब मिलो किसी नये से तो यारी जरा दूर की रखना, अक्सर जानलेवा होते हैं, ये सीने से लगाने वाले यारों।


बनाई थी झोपड़ी मैंने भी इश्क की तेरी बेवफाई की तेज बाढ़ ने उसे भी खंडन कर दिया।।

Dhokebaaz Dost Shayari


Kar Ke Gunah Saja Se Darte Hain,  Kha Ke Zeher Dawa Se Darte Hain,  Gairo Ke Sitam Ka Khauf Nahi Humko, Hum To Apno Ki Bewafai Se Darte Hain.


मुझको करनी है एक मुलाकात तुमसे ऐसे इस जहाँ में..जहाँ मिलकर फिऱ बिछड़ने का कोई बन्दिश ए रिवाज न हो।।


दिल से रोए मगर होंठो से मुस्कुरा बैठे, यूँही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,वो हमे एक लम्हा ना दे पाए अपने प्यार का, और हम उनके लिए अपनी ज़िंदगी गवां बैठे!!


दिल को किसी सूरत में भी यकीं नहीं होता अक्ल को होश है  मगर के खाया है धोका।


गजब का सुकुन दिया मेरे यार ने तेरी गद्दारी के बाद तो, तुझे करनी हो चालबाजी तू इस शौक से करना, कि तेरें बाद कोईं भी बेवफा न लगे…!!!


Aahista-Aahista Door Hote Chale Gaye, Waqt Ke Aage Hum Majbur Hote Chale Gaye, Ishq Me Hum Ne Aisi Chot Khayi Ki, Hum Bewafa Aur Sanam Bekasur Hote Chale Gaye.


आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए, महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए, करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो, पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए!!


इस उम्मीद में  मत रहना के  भूल नहीं  सकता तुझे
अपनी पे आ जाऊं तो क्या-क्या नहीं कर सकता मैं।


मैंने बस उसी से  धोका खाया है जिसे अकसर नमाज़ों में पढ़ा है।


खा कर ज़ख़्म दुआ दी हमने, बस यूही उमर बीता दी हमने,
देख कर जिसको दिल दुखता था, आज वो तस्वीर जला दी हमने!!


Guzarish Hamari Wo Maan Naa Sake Majboori Hamari Wo Jaan Naa Sake Kehte The Ki Marne Ke Baad Bhi Yaad Rakheinge Jeete Jee Jo Humein Pehchan Na Sake.


Log Kehte Hain Piye Baitha Hoon Mein Khud Ko Madhosh Kiye Baitha Hoon Mein Jaan Baaki Hai Wo Bhi Le Lijiye Dil To Pehle He Diye Baitha Hoon Mein.


जीते जी छीन ली जिंदगानी मेरी वो अब मृत्यु का भी उठाती हे
मेरी कबर पर माला के बहाने किसी आशिक से मिलने आती है !!


ऐ दोस्त तुझ को रहम न आए तो क्या करूँ  दुश्मन भी मेरे हाल पे अब आब-दीदा है !!


You May Also Like:-

Waqt Shayari In Hindi

Jalane Wale Status In Hindi

Desi Status In Hindi

Desh Bhakti Shayari 2018

Tareef Shayari In Hindi

Post a Comment

0 Comments