Yaad Bhari Shayari In Hindi For Facebook

Yaad Bhari Shayari

 
Yaad Bhari Shayari
Yaad Bhari Shayari



तुम्हारी याद ऐसे महफूज है मेरे दिल में  जैसे किसी गरीब ने रकम रख्खी हो तिजोरी में  याद शायरी।


अब हिचकिय आती है तो पानी पे लेते है ये वहम छोड़ दिया की कोई याद करता है याद शायरी।


मैं लोगों से मुलाक़ातों के लम्हें याद रखता हूँ मैं बातें भूल भी जाऊं पर लहज़े याद रखता हूँ जरा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रवायत से जो सहारा देते हैं वो कन्धे हमेशा याद रखता हूँ।


आग दिल मे लगी जब वो खफा हुए, महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए, करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो, पर बहुत कुछ दे गये जब वो बेवफा हुए !!


खुशी से दिल को आबाद करना और ग़म को दिल से आज़ाद करना,
हमारी बस इतनी गुजारिश है के हमें भी, दिन में एक बार याद करना…।


Wo Yaad kare ga jis din meri pagal c chahat KO,,, Roye ga boht phir se mera hone k liye…!


दो दिलो की धड़कनो में_एक साज़ होता_है सब को अपनी-अपनी मोहोब्बत पे नाज़ होता_है उस में से, हर एक बेवफा नहीं होता उस की बेवफि के पीछे भी कोई राज़ होता_है.


Unko Kahbar He Mere Tute Armano Ki Aaj Jarurat Padegi Kanch K Pemano Ki Khali Na Hone Dena Jam Yaro Varna Fir Se Yad Aa Jayegi Gujre Zmane Ki.


दाद देते है हम तुम्हारे नज़र अंदाज़ करने के हुनर को जिस ने भी सिखाया है वो उद्ताद कमाल का होगा।


ना जाने उस पर इतना यकीन क्यूँ है उसका ख़याल भी इतना हसीन क्यूँ है सुना है प्यार का दर्द मीठा होता है तो आँख से निकला आँसू नमकीन क्यूँ है !!


हम अजनबी थे जब तुम बातें खूब किया करते थे अब सना साईं है तो तुम हमको याद भी नहीं करते।

Yaad Bhari Shayari In Hindi


ये ना पूछ के शिकायेतें कितनी है तुम से तो बता तेरा कोई और सितम बाकी तो नाही।


नहीं मालूम हसरत है या तू मेरी मुहब्बत है, बस इतना जानता हूं कि मुझको तेरी जरूरत है !!


आज में ने तलाश किया उसे अपने आप में वो मुझे हर जगह मिला मेरी तकदीर के सिवा।


हर मुलाकात पर वक़्त का तक़ाज़ा हुआ हर याद पर दिल का ‘दर्द’ ताज़ा हुआ सुनी थी सिर्फ़ लोगो से जुदाई की बाते अब खुद पर बीती तो हक़ीकत का अंदाज़ा हुआ !!

Yaad Shayari

Yaad Shayari
Yaad Shayari


तेरी यादें भी मेरे बचपन के खिलौने जैसी हैं तन्हा होता हूँ तो इन्हें लेकर बैठ जाता हूँ...।


Gar choomti ho falak duaein kisi ki to kehlwa dein khuda se
ki mere aansu unke hisab me na jodein, humari khairaat bhi unke naseeb me nahi.


जब घर से निकलता हु तिल तिल सा जलता हु सुरज सा दहकता हु
मोम सा पिघलता हु।


Teri Yaad Dil Se Jane Nahi Denge Tere Jesa Dost Khone Bhi Nahi Denge Sharafat Se Roz Yaad Kia Karo Warna Ek Kaan K Niche Denge Or Rone Bhi Nahie Denge

Shayari On Yaad

तेरी यादों को कैसे ब्लाक करूँ  दिल में ऐसा आप्शन ही नही है।


हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है कितने सिद्दत से उन्हें याद करते है हम और एक वो है, जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है।


Dur reh kar bhi teri fariyad karte hain Apni tanhayi se teri baat karte hain Tu bhul ja ya khuf-ae-badnami se ho juda Har ghari har pal tujhi ko yaad karte hain.


तुम मेरे पास थे.. हो.. और हमेशा रहोगे ख़ुदा का शुक्र है यादों की कोई उम्र नहीं होती..!!


याद ना करने की कसम तो ले ली मैंने, पर ये दिल तू भी याद ना आने का वादा तो कर


Tu nahi to meri zindagi me kuch bi nahi he Tere siva dil to he par usme dhadkan nahi he Aaja a sanam lotake tera hi intejar he Tere bino ab ek pl bi kat ta nahi he.


Wahan Na Phool khilte hain Na hi Mosam Badalte hain Wahan to Kuch nahi hota jahan par TUM nahi hote Yahan wese to Her Sogaat asani se milti hai Par Mera DIL Nahi lgta Jahan par TUM nahi hote.


याद ना करने की कसम तो ले ली मैंने, पर ये दिल तू भी याद ना आने का वादा तो कर..।


भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूब कर, इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे खयालों जैसी।


उसकी यादों को किसी कोने में छुपा नहीं सकता उसके चेहरे की मुस्कान कभी भुला नहीं सकता मेरा बस चलता तो उसकी हर याद को भूल जाता लेकिन इस टूटे दिल को मैं समझा नहीं सकता।


Jeene k lye dard ka samaan bohat hai Kuch roz se apna dil pareshan bohat hai Milte hain shabo-roz sabhi log hum se Aik tujh se mulakat ka arman bohat hai.


आया ही था खयाल कि आँखें छलक पड़ीं आँसू किसी की याद के कितने करीब हैं।


आज की तन्हाई कुछ ज्यादा ही गहरी है- तेरे ख़वाब पर आँख आसुओं से भरी है।


ढेरों बच्चे जब आँगन में  था शोर-शराबा आँगन में माँ ने डांटा था चिल्लाकर वो डांट जबानी याद नहीं।


प्यार की कली सब के लिए खिलती नहीं चाह कर भी हरेक एक चीज मिलती नहीं सच्चा प्यार किस्मत से मिलता है पर हर एक को ऐसी किस्मत मिलती नहीं।


तेरी यादों को पसंद आ गई है मेरी आंखों की नमी हंसना चाहु तो रूला देती है तेरी कमी।


सूख गए फूल पर बहार वही है दूर रहते है पर प्यार वही है जानते है हम मिल नहीं पा रहे है आपसे मगर.. इन आंखो में मोहब्बत का इंतजार वही है!


यादों की मेज़ पर कोई तसवीर छोड़ दो कब से मेरे ज़हन का कमरा उदास है !!


महफ़िल मैं कुछ तो सुनाना पड़ता हैं गम छुपाकर मुस्कुराना पड़ता हैं,
कभी उनके हम थे दोस्त आजकल उन्हें याद दिलाना पड़ता हैं।


हर सागर के दो किनारे होते है कुछ लोग जान से भी प्यारे होते है ये ज़रूरी नहीं हर कोई पास हो क्योंकी जिंदगी में.. यादों के भी सहारे होते है |

Post a Comment

0 Comments